Coronavirus: नीति आयोग के प्रमुख ने कहा- सर्दियों में कोरोना की दूसरी लहर से इनकार नहीं

0
6


कोरोन संक्रमण नाम की जानलेवा बीमारी से पूरी दुनिया जूझ रही है. वहीं इस बीमारी का टीका जल्द से जल्द लाने के दिन दुनियाभर के वैज्ञानिक दिन-रात जुटे हुए हैं. कोरोना संकट के बीच भारत में अब कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या में पिछले कुछ दिनों से गिरावट दर्ज की जा रही है. हालांकि विशेषज्ञों का मानना है कि सर्दी बढ़ने के साथ कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर देश में दस्तक दे सकती है.

सर्दियों में कोरोना की दूसरी लहर की है संभावना

 नीती आयोग के मेंबर हेल्थ डॉ वीके पॉल ने कहा है कि सर्दियों के मौसम में कोरोना की दूसरी लहर की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है. उन्होने बताया कि पिछले तीन हफ्तों में कोरोना वायरस के नए मामलों और मौतों की संख्या में गिरावट देखने को मिली है. वहीं उन्होने यह भी कहा कि जब एक बार देश में कोरोना वायरस बीमारी की वैक्सीन आ जाएगी तब नागरिकों तक इसे पहुंचाने और इसे उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त संसाधन होंगें.

भारत में कोरोना का पीक हो चुका है खत्म

वहीं कोरोना वायरस को लेकर सरकार की ओर ने बनाए गए पैनल ने आज कहा कि देश में कोरोना का पीक खत्म हो गया है. इसके साथ ही पैनल ने अनुमान जताया कि फरवरी 2021 तक देश में कोरोना महामारी खत्म हो जाएगी. इसके साथ ही पैनल ने कहा कि हमें कोरोना को लेकर अपनाए जा रहे एहतियातों को जारी रखना होगा.पैनल ने कहा कि फरवरी में जिस वक्त महामारी खत्म होगी उस वक्त भारत में कोरोना के कुल एक करोड़ पांच लाख केस होंगे. इसके साथ ही कमेटी ने अनुमान जताया कि अगर मार्च में सरकार ने लॉकडाउन नहीं किया होता तो अगस्त महीने तक देश में मरने वालों की संख्या 25 लाख को पार कर जाती.

पिछले 24 घंटों में 61,871 नए कोरोना मामले दर्ज

वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटों में 61,871 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 72,614 मरीज ठीक भी हो गए. हालांकि 1033 मरीजों की जान भी चली गई. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 74 लाख 94 हजार के पार पहुंच गई है. इनमें से एक लाख 14 हजार मरीजों की मौत हो चुकी है. वहीं रिकवरी मामलों की संख्या 65 लाख 97 हजार तक पहुंच गई है और एक्टिव केस की संख्या घटकर 7 लाख 83 हजार पर आ गई है.

रिकवर हुए लोगों की संख्या आठ गुना ज्यादा

संक्रमण के एक्टिव केस की संख्या की तुलना में रिकवर हुए लोगों की संख्या आठ गुना ज्यादा है. महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु में कोरोना वायरस के एक्टिव केस, मृत्यु दर और रिकवरी रेट का प्रतिशत सबसे ज्यादा है.ICMR के मुताबिक, 17 अक्टूबर तक कोरोना वायरस के कुल 9 करोड़ 42 लाख सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 9,70,173 सैंपल की टेस्टिंग कल की गई. पॉजिटिविटी रेट करीब सात फीसदी है.

सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में एक्टिव केस
देश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं. महाराष्ट्र के बाद आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस हैं. एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत का दूसरा स्थान है. कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का दूसरा सबसे प्रभावित देश है. मौत के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत का नंबर है.

मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में आ रही गिरावट

राहत की बात है कि मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. मृत्यु दर गिरकर 1.51% हो गई. इसके अलावा एक्टिव केस जिनका इलाज चल है उनकी दर भी घटकर 11% हो गई है. इसके साथ ही रिकवरी रेट यानी ठीक होने की दर 88% पर है. भारत में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है.

 ये भी पढ़ें

भारत में कोरोना वायरस में बड़ा बदलाव नहीं, वैक्सीन कार्यक्रम पर भी नहीं पड़ेगा कोई असर: PMO



Rights

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें