Corona Virus: अमित शाह के निर्देश के बाद ICMR मुस्तैद, बढ़ाई RT-PCR टेस्टिंग क्षमता

0
4


देश में कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों का आंकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है. हर रोज कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. इस बीच गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशों के बाद आईसीएमआर ने आरटी-पीसीआर टेस्टिंग क्षमता में इजाफा किया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देश पर आरटी-पीसीआर टेस्टिग क्षमता 27 हजार टेस्ट प्रतिदिन से बढ़ाकर 37200 कर दिए हैं. इससे पहले अमित शाह ने 15 नवंबर को दिल्ली में कोरोना वायरस की स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए कई उपायों का ऐलान किया था.

गृह मंत्रालय की ओर से ट्वीट कर बताया गया, ‘आईसीएमआर ने गृहमंत्री अमित शाह के निर्देश पर RT-PCR टेस्टिंग क्षमता को 27 टेस्टिंग प्रतिदिन से बढ़ाकर 37200 RT-PCR टेस्ट प्रतिदिन कर दिया है. जिसके बाद 19 नंवबर को दिल्ली में 30735 आरटी-पीसीआर सैंपल लिए गए जबकि 15 नवंबर को महज 12055 आरटी-पीसीआई सैंपल लिए गए थे.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले कई दिनों से लगातार कोरोना वायरस केस में बढ़ोतरी हो रही थी. जिसके बाद गृहमंत्री अमित शाह के जरिए कई उपाय बताए गए थे. इन उपायों में आरटी-पीसीआर टेस्टिंग को दोगुना करना, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर से संबंधित मोबाइल परीक्षण वैन की तैनाती शामिल हैं.

त्योहारी सीजन के बीच दिल्ली में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए रणनीति तैयार करने के लिए बैठक बुलाई गई थी. जिसमें अमित शाह ने कहा था कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के डॉक्टर और पैरामेडिकल क्रू को क्षमता बढ़ाने के लिए दिल्ली में भेजा जाएगा. उन्होंने कहा कि गंभीर कोविड-19 संक्रमण के मामलों में प्लाज्मा दान की अनुमति देने के लिए प्रोटोकॉल तैयार किए जाने हैं.

देश में कितने कोरोना केस?

वहीं सरकार का कहना है कि देश में अब तक कोविड-19 टेस्टिंग की कुल संख्या 13 करोड़ के आंकड़े को पार कर चुकी है. वहीं पिछले एक करोड़ सैंपल सिर्फ 10 दिन में ही लिए गए हैं. बता दें कि देश में अब तक 90.5 लाख से ज्यादा कोरोना वायरस के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है. जिनमें से 1.32 लाख लोगों की कोरोना के कारण जान जा चुकी है. इसके अलावा देश में फिलहाल 4 लाख से ज्यादा एक्टिव कोरोना मरीज हैं.





Rights

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें